Stop loss कैसे लगाए - Stock Market Hindi

Latest

A blog about stock market Mutual fund, Sbi mutual fund, intraday trading, option trading, credit card, national pension scheme, option strategy, easyphonic.com

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

Stop loss कैसे लगाए

Stop Loss कैसे लगाए- शेयर बाज़ार, करेंसी बाज़ार अथवा कमोडिटी बाज़ार में स्टॉपलॉस की बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। यह एक ट्रेडर के लिए लाइफलाइन का काम करता है। 

स्टॉपलॉस की मदद से एक ट्रेडर अपने जोखिम को सीमित रख सकता है। इस पोस्ट के माध्यम से स्टॉपलॉस के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है।

Stoploss क्या है।

Stop loss शेयर बाज़ार में सुरक्षा के मेकैनिज्म के तौर पर काम करता है जिसकी बदौलत एक ट्रेडर शेयर बाज़ार में अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है, और शेयर बाज़ार में होने वाली बड़ी हानि से खुद को बचाने में सफल हो जाता है|

जब आप किसी स्टॉक में अपनी पोजीशन बनाते है तो आप किसी अनुमान पर ट्रेड करते है परन्तु यह निश्चित नहीं होता है कि उक्त सौदे में आपको लाभ होगा अथवा हानि, ऐसी स्थति में स्टॉपलोस एक अच्छे विकल्प का काम करता है|

स्टॉपलोस के फायदे 

यदि आप प्रत्येक सौदे में स्टॉपलोस का इस्तेमाल करेंगे और उसके लिए अपने लाभ और हानि का अनुपात सही स्थति में रखेंगे | तो आप हमेशा स्टॉक मार्किट में लाभ बनाते रहेंगे|

जिसके लिए एक उदहारण इस प्रकार है|

मान लीजिये आप 1:2 के रिस्क रिवॉर्ड के साथ ट्रेडिंग करते है| जोकि 2 रुपए के लाभ के लिए 1 रुपए का नुकसान अथवा जोखिम माना जायेगा| इस स्थति में आपके दस ट्रेड में से 5 ट्रेड में आपको नुक्सान होता है और पाच ट्रेड में लाभ होता है| क्योंकि आपका रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो 1:2 में है| तो आपके लाभ और हानि का कुल विवरण इस प्रकार होगा|

कुल ट्रेड किये   - 10 
लाभ वाले ट्रेड   - 5 x 2 =10  
हानि वाले ट्रेड  - 5 x 1 =  5 

आपके 50 प्रतिशत सही ट्रेड भी आपको लाभ दे सकते है और इसके लिए आपको स्टॉपलोस की आवश्यकता होगी|


Stoploss कैसे लगाये 

स्टॉपलोस का इस्तेमाल दो तरीके से किया जा सकता है|

1. यदि आपके पास पहले से ही कुछ शेयर है जिन्हें आपने खरीद अथवा बेच रखा है उन शेयर के लिए आप स्टॉपलोस लगा सकते है| और अपने जोखिम को सिमित रख सकते है|

2. आप स्टॉपलोस की मदद से कोई शेयर खरीद अथवा बेच भी सकते है मान लीजिये कोई x कंपनी का शेयर 100 रुपए पर ट्रेड कर रहा है और आपको लगता है की उक्त शेयर यदि 101 रुपए के स्तर को तोड़ता है तो उसमे बड़ी तेज़ी आ सकती है तो आप एक स्टॉपलोस आर्डर की मदद से 101 रुपए के ट्रिगर प्राइस के साथ एक आर्डर डाल देंगे, अब जैसे ही स्टॉक 101 रुपए के स्तर पर पहुचेगा तो आपका आर्डर एक्सीक्यूट हो जायेगा| 

शेयर बाज़ार में कितने ही ट्रेडर इस रणनीति का इस्तेमाल करते है जो किसी स्टॉक के रेजिस्टेंस अथवा सपोर्ट को ध्यान में रखते हुए स्टॉपलोस आर्डर के माध्यम से अपनी ट्रेड पहले से ही डालकर रखते है जैसे ही कोई स्टॉक अपने सपोर्ट अथवा रेजिस्टेंस को तोड़ता है तो उनकी द्वारा डाले गए आर्डर एक्सीक्यूट हो जाते है और मुनाफा मिलने की सम्भावना बढ़ जाती है|


स्टॉपलोस सभी सेगमेंट में इस्तेमाल किये जा सकते है शेयर बाज़ार, कमोडिटी बाज़ार अथवा करेंसी बाज़ार में भी इनका इस्तेमाल किया जाता है|

इन्हें इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

stoploss

जैसा की उपरोक्त चित्र में दर्शाया गया है सबसे पहले किसी स्टॉक में BUY अथवा SELL पर क्लिक करे|

stoploss


जिसके बाद ओर्डर का मुख्य पेज खुल जायगा|

जिसमे आपको सबसे पहले MIS अथवा CNC को चुनना है यानि आप किस  तरह की ट्रेडिंग पर स्टॉपलॉस इस्तेमाल चाहते है। डे ट्रेडिंग अथवा डिलीवरी ट्रेडिंग।

उसके बाद दाहिने तरफ चार प्रकार के आर्डर दिए गए हैं जिनमे MARKET    LIMIT      SL और   SL-M है।

इनमे से आप SL और SL-M  को चुन सकते है|लेकिन स्टॉपलॉस के लिए SL-M आर्डर बेहतर होता है।

SL का मतलब, स्टॉपलॉस लिमिट आर्डर है जिसमे आप अपने मुताबिक मूल्य तय कर सकते है लेकिन ऐसा भी हों सकता है कि आपका आर्डर एक्सीक्यूट ही ना हो, क्योंकि आपके द्वारा जो मूल्य निर्धारित किया गया था वो उक्त स्टॉक में आपके मूल्य से मैच ही ना किया हो।

SL-M- स्टॉपलॉस मार्किट आर्डर होते है जोकि आपके ट्रेडिंग प्राइस के नज़दीक वाली bid अथवा ask के आधार पर एक्सीक्यूट होते है। यह आर्डर एक्सीक्यूट अवश्य होते है यही इनका महत्वपूर्ण पक्ष है।

उसके उपरान्त आपको अपनी क्वांटिटी अथवा मात्रा को चुनना है आप कितने शेयर के लिए स्टॉपलॉस लगाना चाहते है या स्टॉपलॉस आर्डर के अंतर्गत कितने स्टॉक खरीदना अथवा बेचना चाहते है।

अब सबसे महत्वपूर्ण बिंदु है ट्रिगर प्राइस, एक ऐसा प्राइस जहां आप अपना जोखिम सीमित करना चाहते है या जिस मूल्य पर आप किसी शेयर को खरीदना अथवा बेचना चाहते है।

इसके बाद एक और विकल्प दिया गया है disclose Qty मतलब आपने जितनी मात्रा स्टॉपलॉस आर्डर के लिए पहले दर्ज की है आप उतनी ही मात्रा में अपना आर्डर एक्सीक्यूट कराना चाहते है या फिर एप्ने मुताबिक मात्रा तय कर सकते है।

इन सब के बाद आपको अपना आर्डर प्लेस करना है और इस तरह आपका स्टॉपलॉस लग चुका है।

किसी अन्य जानकारी के लिए आप कमेंट कर सकते है।


No comments:

Post a Comment