GeM क्या है Government E-Market place के बारे में - Stock Market Hindi

Latest

A blog about stock market Mutual fund, Sbi mutual fund, intraday trading, option trading, credit card, national pension scheme, option strategy, easyphonic.com

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

GeM क्या है Government E-Market place के बारे में

GeM यानि Government E-Market place क्या है| और एक विक्रेता इसके माध्यम से कैसे अपनी वस्तुओं को सरकारी संस्थाओं अथवा गैर सरकारी संस्थाओं को ऑनलाइन इन्टरनेट के माध्यम से बेच सकता है| 


भारत सरकार द्वारा वर्ष 2017 में सभी सरकारी संस्थाओं और गैर सरकारी संस्थाओं में पारदर्शिता को बनाये रखने हेतु, DGS&D के स्वरुप को बदलकर एक नए रिफार्म के तहत GeM पोर्टल को शुरू किया गया| जिसका उद्देश्य सरकारी संस्थाओं और विभागों द्वारा खरीद प्रक्रिया को आसान बनाने, और सरकारी संस्थाओं, विभागों व गैर सरकारी संस्थाओं को वस्तुओं और सेवाओं को उपलब्ध कराने वाले विक्रेताओं को एक डिजिटल ई कॉमर्स प्लेटफार्म उपलब्ध कराना था। इस प्लेटफार्म पर पूर्ण नियंत्रण भारत सरकार द्वारा किया जाता है।

GeM पोर्टल का लिंक गवर्नमेंट मार्किट place

GeM gov


एक नज़र Government E-Market place (GeM) के बारे में।

  • माननीय प्रधानमंत्री को शीर्ष सचिवों के समूह द्वारा एक प्रस्ताव GeM के बारे में रखा गया था जिसको माननीय प्रधानमंत्री द्वारा स्वीकृत कर लिया गया।
  • GeM पोर्टल को केवल पांच महीने के रिकॉर्ड समय मे शुरू किया गया था।
  • सरकारी संस्थाओं व विभागों द्वारा GeM पोर्टल के माध्यम से वस्तुओं अथवा सेवाओ को खरीदना वित्त मंत्रालय ने अनिवार्य किया है जिसके लिए GFR -17 में Rule 149 के अंतर्गत उल्लेख किया गया है।

एक आम आदमी भी GeM पोर्टल के माध्यम से कारोबार शुरू कर सकता है।

यदि आपकी कोई दुकान है अथवा कंपनी है तो आप GeM पोर्टल के माध्यम से सरकारी संस्थाओं व विभागों को अपने उत्पात अथवा वस्तुओं को बेच सकते है और यह पूरी तरह सुरक्षित है क्योंकि इस प्लेटफार्म पर पूर्ण नियंत्रण भारत सरकार द्वारा किया जाता है।

GeM पोर्टल पर अपना कारोबार शुरू करने के लिए आपको GeM की टर्म्स और कंडीशन्स का पालन करते हुए रजिस्ट्रेशन करना होगा। जिसके लिए आपके पास GSTIN नंबर और पैन नंबर इत्यादि का होना अति आवश्यक है। 

एक विक्रेता अथवा सेवा प्रोवाइडर को GeM पोर्टल पर क्या फायदा होता है।

  1. GeM पोर्टल सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है इसलिए आपका कारोबार इस पोर्टल पर पूरी तरह सुरक्षित है और आप बेहिचक GeM पोर्टल पर अपने उत्पात, वस्तु एवम सेवा उपलब्ध करा सकते है।
  2. किसी भी प्रोडक्ट को उसकी कैटेगरी के आधार पर GeM पोर्टल पर पब्लिश कर सकते है जहाँ आपको बिना किसी खर्च के एक बड़ा ऑनलाइन बाज़ार मिल जाता है जिसकी मदद से आप अपना कारोबार ऑनलाइन बढ़ा सकते है।
  3. यहां अन्य ई कॉमर्स वेबसाइट की तरह आपको अतिरिक्त शुल्क नही देना पड़ता है बल्कि किसी प्रोडक्ट अथवा सेवा पर लगने वाला GST ही लागू होता है।
  4. आपका प्रोडक्ट बहुत जल्द पब्लिश हो जाता है और जब चाहे आप उसमे तब्दीली कर सकते है।
  5. GeM पोर्टल पर आपको ऑनलाइन सपोर्ट भी मिलती है किसी भी समस्या के लिए आप बिहिचक जेम ग्राहक सेवा अधिकारी से बात कर सकते है और अपनी किसी भी समस्या को सुलझा सकते है।
  6. GeM पोर्टल पर आप बड़े उत्पात भी बेच सकते है जिनकी कीमत करोड़ो रूपये में होती है।
  7. जब किसी वस्तु को, (जिसे खरीदने के लिए किसी सरकारी संस्था ने आपको आर्डर प्लेस किया है) सही समय पर आपके द्वारा उस सरकारी संस्था को पहुचा दिया जाता है उसके पहुचने के 15 दिन के अंदर पेमेंट उस सरकारी संस्था द्वारा आपके बैंक खाते में कर दिया जाता है।

GeM पोर्टल पर खरीद की प्रक्रिया

कोई भी सरकारी संस्था जोकि GeM पोर्टल पर रजिस्टर्ड है वो पचास हज़ार रुपए तक की खरीद डायरेक्ट कर सकती है जिसके लिए किसी भी अन्य कार्यवाही की आवश्यकता नही है और यदि चाहे तो, पचास हज़ार रुपए से कम मूल्य के प्रोडक्ट, वस्तु अथवा सेवा के लिए bid विकल्प का भी इस्तेमाल कर सकती है।

पचास हज़ार रुपए से तीस लाख रुपए तक की खरीददारी के लिए Buyer (क्रेता) को bid सिस्टम का इस्तेमाल करना पड़ता है जिसके लिए GeM पोर्टल पर सुविधा दी गयी है।

तीस लाख रुपए से अधिक की खरीददारी के लिए रिवर्स ऑक्शन का इस्तेमाल किया जाता है।

विक्रेता एवम सेवा प्रोवाइडर के लिए कुछ शर्तें

  • किसी भी वस्तु का मूल्य उस पर दर्ज MRP से ज्यादा आप GeM पोर्टल पर पब्लिश नहीं कर सकते है यदि आप इस तरह का कोई प्रोडक्ट किसी सरकारी संस्था को बेचते है तो आपको GeM पोर्टल प्राधिकरण द्वारा ब्लैक लिस्ट किया जा सकता है।
  • एक बार आर्डर स्वीकार करने के बाद आपको डिलीवरी 15 दिन के अंदर करनी होगी।
  • यदि किसी सरकारी संस्था ने आपके प्रोडक्ट के लिए आपको आर्डर दिया है और आपने उस आर्डर को 120 घंटे तक स्वीकार नही किया है तो GeM पोर्टल का सिस्टम उसे स्वयं निरस्त कर देगा।
  • आपके द्वारा GeM पोर्टल पर किसी भी तरह के अनैतिक व्यपार के लिए, उक्त संस्था आपके खिलाफ GeM पोर्टल Incident create कर सकती है। जिससे आपके कारोबार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और सीरियस मामलों में GeM ऑथोरिटी आपको ब्लैक लिस्ट भी कर सकती है।
  • जब कोई सरकारी संस्था अथवा विभाग आपको किसी वस्तु अथवा सेवा के लिए कोई आर्डर प्लेस करता है और उसके बदले में आप उस वस्तु को संबंधित संस्था अथवा विभाग को भेजते है। उक्त सरकारी संस्था के पास आपके द्वारा भेजी गई वस्तु को निरीक्षण करने का अधिकार है यदि उक्त वस्तु आपके द्वारा GeM पोर्टल पर दिए गए विनिर्देशों के आधार पर नही पाई जाती है तो उक्त वस्तु को निरस्त किया जा सकता है जिसे आपको वापस लेना होगा।

निष्कर्ष

GeM पोर्टल एक सरकारी ई कॉमर्स डिजिटल प्लेटफार्म है जिसे सरकारी संस्थाओं और विक्रेताओं के बीच आसान व पारदर्शिता बनाये रखने के उद्देश्य से शुरू किया गया है यह नए कारोबारियों को एक बेहतर मौका देता है अपने उत्पातो को आसानी से सरकारी संस्थाओं और विभागों को बेचने का, इसके माध्यम से एक विक्रेता अथवा सर्विस प्रोवाइडर अपना कारोबार तेज़ी से बढ़ा सकता है। लेकिन GeM पोर्टल की शर्तों का सम्मान किया जाना आवश्यक है।

किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमें कमेंट कर सकते है।







No comments:

Post a Comment